विहार सेवा में जानकारी देने हेतु आवेदन पत्र

अमृत आशीष : परम पूज्नीय मालवा भूषण आचार्य श्री नवरत्नसागरसूरीश्वरजी म. सा.
स्वर्णिम मार्गदर्शन : जिनशासन हितचिंतक, युवा ह्रदय सम्राट श्री विश्वरत्नसागरसूरीश्वरजी म. सा.

जय जिनेंद्र,

जिन शासन के गौरव हमारे पूज्य साधु- साध्यि भगवंत जब एक गाव से दूसरी जगह विहार करते है तो उन्हें कही परेशानियों का सामना करना पड़ता है जैसे- यातायात का दबाव, गोचरी की व्यवस्था, गरम पानी की व्यवस्था, रात्रि विश्राम की व्यवस्था, आदि। इन परेशानियों से उन्हें बचाने हेतु नवरत्न परिवार ने विहार यात्रा में पूज्य गुरु भगवंतो के साथ अपने सदस्यो का एक विहार कार्यक्रम बनाने का निश्चय किया है जिससे कार्यकर्ताओ की मदद से उनकी यात्रा निर्बाध रूप से संम्पन्न हो सके।

इस हेतु आप अपनी सेवाएं देना चाहते है तो कृपया निम्न फॉर्म को ऑनलाइन भरे।
धार्मिक मान्यता - मंदिर/ स्थानकवासी/ तेरापंथ